'सत्यमेव जयति नानृतम्'

स्वामी सानंद जी की चौथी पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि सभा

दिनांक ११ अक्टूबर २०२१ को मातृ सदन में स्वामी सानंद जी की चौथी पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि सभा का आयोजन हुआ। डा विजय वर्मा ने स्वामी सानंद जी के द्वारा किए गए 7 अनशनों के बारे में बताया। लोहारी नागपाला, भैरों घाटी, पाला मनेरी जल परियोजनाओं को निरस्त कराया। उनको स्वस्थ हालत में इलाज के नाम पर जबरदस्ती ले जा कर AIIMS Rishikesh में लाकर उनकी मौत की खबर दी।

ब्रह्मचारी आत्मबोधानंद ने उन्हें याद करते हुए बताया कि सानंद जी ने प्रधान मंत्री को कई पत्र लिखे क्योंकि चुनाव से पूर्व मोदी जी ने सानंद जी को विश्वास दिलाया था कि वो चुनाव के बाद जरूर गंगा जी को बचाने का कार्य करेंगे, किंतु 4 वर्ष इंतजार करने के बाद जब उन्होंने देखा कि ये तो गंगा को बचाने के बजाय बेचने पर आमादा है तो उन्होंने 3 पत्र लिख कर जब जवाब नही पाया तो सानंद जी को 22 जून 2018 से सत्याग्रह शुरू किया जिसकी परिणिति उनकी शहादत के रूप मे हुई।

ब्रह्मचारी दयानंद ने कहा कि वो बोल कर गए थे की मैं राम जी के दरबार जा कर पीएम को दंडित करवाऊंगा।

डाक्टर निरंजन मिश्र ने कहा हम गृहस्थ को भी संन्यासी की गंगा को बचाने और सानंद जी के कार्यों को पूरा करने की ललक पैदा करें। जब धर्म खराब हो तो अर्थ और काम भी अनर्थ करेंगे

डा दीपक कोठरी बोले की सानंद जी ये विश्वास था की अगर गंगा जी का सरंक्षण हुआ तो पर्यावरण बचा रह सकता है।
सभा में विधि वर्मा, अनिल सिंह, पीयूष सरवरिया, वर्षा वर्मा, आकाश ऋतुराज, डा निरंजन मिश्र, डा विजय वर्मा आदि ने भाग लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.